रेल मंत्री ने कविगुरु एक्सप्रेस को नोनीहाट भातुड़िया स्टेशन से हरी झंडी दिखा कर विदा किया

रेल मंत्री अश्विनी वैश्य ने कविगुरु एक्सप्रेस के नोनीहाट भातुड़िया स्टेशन में ठहराव को किया राष्ट्र को समर्पित

बासुकीनाथ मंदिर जाने के इच्छुक तीर्थयात्रियों को मिलेगा लाभ: अश्विनी वैश्य

कविगुरु ट्रेन का ठहराव इस क्षेत्र के लोगों के लिए एक सौगात: डा निशिकांत

दुमका । केन्द्रीय रेल मंत्री सह संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैश्य ने शनिवार को नोनीहाट भातुड़िया रेलवे स्टेशन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हावड़ा-जमालपुर कविगुरु एक्सप्रेस विशेष ट्रेन (सं. 03015/03016) के ठहराव को राष्ट्र को समर्पित किया। नए ठहराव का मकसद झारखंड क्षेत्र में बेहतर परिवहन सुविधा उपलब्ध कराना है। यह क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को गति देने के रूप में कार्य करेगा। नोनिहाट भातुड़िया स्टेशन पर किसी भी मेल/एक्सप्रेस ट्रेन का यह पहला ठहराव है।

इस अवसर पर रेल मंत्री अश्विनी वैश्य ने कहा कि हावड़ा-जमालपुर कविगुरु एक्सप्रेस स्पेशल झारखंड को अगल-बगल के राज्यों यानी बिहार और पश्चिम बंगाल से जोड़ने वाली एक महत्वपूर्ण दैनिक ट्रेन है। नोनिहाट भातुड़िया स्टेशन पर कविगुरु एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के ठहराव की व्यवस्था से एक तरफ कोलकाता जैसे कारोबारी जिले और दूसरी ओर भागलपुर जैसे कारोबारी जिले से इस क्षेत्र की सीधी कनेक्टिविटी देंगे। झारखंड के दुमका जिले में

नोनिहाट भातुड़िया के लिए आसान संचार संपर्क इस क्षेत्र के व्यापारिक समुदाय और क्षेत्र के समग्र विकास के लिए और अधिक अवसर लाएगा। वैष्णव ने यह भी कहा कि बासुकीनाथ मंदिर जाने के इच्छुक तीर्थयात्रियों को संचार का एक आरामदायक बिंदु मिलेगा क्योंकि नोनिहाट भातुड़िया स्टेशन बासुकीनाथ मंदिर परिसर से केवल 10 किमी दूर है जिसमें भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित मंदिर है।

नोनीहाट निज संवादाता के अनुसार नोनीहाट भातुड़िया रेलवे स्टेशन में कविगुरु एक्सप्रेस का ठहराव होने पर शनिवार को स्टेशन परिसर में भव्य समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद गोड्डा सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में विकास की रेल दौड़ रही है। उन्होंनेे कहा कि दुर्गा पूजा के शुभ अवसर पर नोनीहाट भातुड़िया रेलवे स्टेशन में कविगुरु ट्रेन का ठहराव इस क्षेत्र के लोगों के लिए एक सौगात है। यात्रियों की सुविधा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इससे स्थानीय व्यापारियों को काफी सुलभ सुविधा उपलब्ध होगी।

दुमका सांसद सुनील सोरेन ने कहा कि नोनीहाट वासियों के लिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण दिन है। बाबा बैजनाथ धाम देवघर के लिए जैसे जसीडीह स्टेशन अति महत्वपूर्ण है वैसे ही बाबा बासुकीनाथ के श्रद्धालुओं के लिए नोनीहाट स्टेशन अत्यंत महत्वपूर्ण है।

पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक अरुण अरोड़ा ने स्वागत भाषण दिया जबकि मालदा के पूर्व रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक यतेंद्र कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया। मौके पर पूर्व विधायक देवेंद्र कुंवर, स्थानीय मुखिया पूनम देवी रेलवे के पदाधिकारी सुमित मजूमदार, पवन कुमार, एस आर घोषाल, उत्पलकांत बाल, अंबिका नाथ मिश्रा, एके दूबे, राजेश कुमार, भाजपा नेता जयप्रकाश मंडल, गौरव कांत यादव आदि भी मौजूद थे।


बढ़ेत गाँव में ग्रामीणों ने लगाया सांसद जिंदाबाद के नारे

कार्यक्रम में जाने के क्रम सांसद को रोक कर किया स्वागत

गोड्डा लोकसभा क्षेत्र के सांसद निशिकांत दुबे के 2019 से अबतक के कार्यकाल में शनिवार को पहली बार लोकसभा क्षेत्र के बढ़ेत गाँव में न केवल सांसद का फूलमाला से स्वागत किया गया बल्कि ग्रामीणों ने जमकर निशिकांत जिंदाबाद के नारे भी लगाएं। ऐसा ग्रामीणों ने केवल सांसद से रेलवे हॉल्ट की मांग को लेकर किया या फिर इसके राजनीतिक मायने हैं। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि बढ़ेत गाँव के लोग किसी भी चुनाव में अपने आत्मसम्मान के लिये वोट करते हैं, वहाँ चुनाव में पैसों का खेल बिल्कुल ही नहीं चलता। राजनीतिक जानकार इसे सांसद की लोकप्रियता से जोड़कर देखते हैं। उनके अनुसार शनिवार को बढ़ेत में जो नज़ारा दिखाई दिया इसकी हनक वर्षों बाद नज़र आती रहेंगी। 2009 में जब निशिकांत पहली बार चुनाव लड़ने के लिए भाजपा के टिकट को लेकर आएं थें, उस समय और 2014 व 2019 के मोदी लहर में बढ़ेत गाँव भी उन गांवों में से एक था जहाँ के लोगों ने खुलकर सांसद का विरोध किया था और यहीं वजह थी की लाख प्रयास के बाद भी सांसद इस अभेद गाँव को भेद नहीं पाएं। लेकिन शनिवार को गाँव के लोगों ने कुछ ओर संदेश दिया। अब यह संदेश आने वाले दिनों में कितना प्रभाव डालेगा यह देखना दिलचस्प होगा।


सांसद का काफिला रोक कर की हॉल्ट की मांग

सरैयाहाट। शनिवार को सांसद देवघर से हंसडीहा के रास्ते नोनीहाट स्टेशन में रेलवे के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे इस दौरान बढ़ेत गाँव के पास सैकड़ों की संख्या में मौजूद ग्रामीणों ने सांसद के काफिले को रोक उनका स्वागत किया। ग्रामीणों ने अपनी समस्याओं और क्षेत्र के कृषि क्रांति के बारे में उन्हें जानकारी देते हुए बढ़ेत में रेलवे हॉल्ट की मांग की। ग्रामीणों ने बताया की हॉल्ट बन जाने से आसपास के कई गांवों के किसान और छात्रों को सीधा इसका फायदा होगा।



94 views0 comments