सरकार और आदिम जनताति उत्थान समिति ने 11 पहाड़िया जोड़ों का कराया सामूहिक विवाह


दुमका। गोपीकांदर ब्लॉक मैदान में सरकार आपके द्वार के तहत आदिम जनजाति सामूहिक विवाह कराया गया। आदिम जनजाति सामूहिक विवाह कार्यक्रम में 11 जोड़ें वर-वधु का विवाह कराया गया। विवाह कार्यक्रम हिन्दू रीति-रिवाज के साथ सम्पन्न हुआ। विवाह में पाकुड़ और दुमका जिला के वर-वधु शामिल है। समिति ने वर-वधु को उपहार स्वरूप फलदार पौधा दिया। कार्यक्रम में शामिल प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी अनन्त कुमार झा ने सम्बोधित करते हुए कहा कि पहाड़िया जनजाति अपने लोक संस्कति में पूरे देश में धूम मचा रहा है। उन्होंने कहा कि जन्म पंजीकरण जितना महत्वपूर्ण विवाह निबन्धन होता है। सभी 11 जोड़ें का आज ही विवाह निबन्धन कराने का निर्देश गोपीकांदर पंचायत सचिव को दिया। बीडीओ ने कहा कि सभी 11 नवविवाहित जोड़ें का मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत लाभ दिलाने का कार्य भी किया जाएगा। इसके लिए जो भी आवेदन है उसे जल्द कार्यालय में सबमिट करें। उन्होंने कोविड -19 के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि कोरोना का तीसरा लहर बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है। बच्चों को सुरक्षित रखे। दुमका जिला में बच्चों के बीच का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ रहा है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल रेड क्रॉस सोसाइटी के सचिव अमरेंद्र यादव ने सम्बोधित करते हुए कहा कि विवाह कराना बहुत नेक कार्य है। उन्होंने कहा कि गांव-कस्बों से अक्सर देखने को मिलता है कि दूसरे राज्य ले जाकर पहाड़िया बच्चों को बेच दिया जाता है। मजदूरी कराने के नाम पर उनसे तरह-तरह के शोषण किया जाता है। उनके परिजन भी पुलिस में शिकायत नहीं करते हैं। अपनी समस्या को गाँव तक ही सीमित रखते हैं। यदि परिजन ऐसे मामलों में पुलिस में शिकायत करती है तो उन बच्चों को विभिन्न माध्यम से वापस घर तक पहुँचाया जाता है। पुलिस के अलावा कई ऐसे संस्थान है जो चाइल्ड लाइन पर कार्य करती है। बीडीओ सह सीओ अनन्त कुमार झा, जिला परिषद सदस्य निर्मला टुडू, प्रखंड प्रमुख सरिता देवी, सुमंगल ओझा, अखिल भारतीय पहाड़िया आदिम जनजाति उत्थान समिति के अध्यक्ष मोतीलाल सिंह, सचिव कन्हाई देहरी, महासचिव चन्द्रशेखर गृही, संयुक्त सचिव दिनेश्वर देहरी, संगठन प्रभारी मनोज देहरी, उपसमिति अध्यक्ष शिवनारायण पुजहर, प्रशिक्षण प्रमुख आनंद भंडारी, दुमका गठन प्रभारी हराधन मंडल, साहेबगंज संगठन प्रभारी मदन दास, गोपीकांदर मुखिया शांति देवी आदि शामिल थी।

22 views0 comments