हेमन्त सरकार में जज से लेकर आम और खास सभी असुरक्षित - बाबूलाल मरांडी


अपराधी व दलाल की सांठगांठ से हेमंत सोरेन सरकार चल रही है


दुमका। फूलो झानो चौक पर जिला भाजपा द्वारा अवैध कारोबार और भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी 120 घंटे के सत्याग्रह के चौथे दिन सोमवार को भाजपा विधायक दल के नेता पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि अपराधी व दलाल की सांठगांठ से हेमंत सोरेन सरकार चल रही है। राज्य में विधि-व्यवस्था चौपट हो गई है। हेमंत सोरेन सरकार आदिवासी और मूलवासी विरोधी है। जल, जंगल और जमीन की रक्षा करने का दंभ भरने वाला झामुमो के लोग ही इसकी लूट में शामिल हैं। खनिज संपदा समेत तमाम अवैध कामकाज झामुमो और सरकार की सह पर हो रही है। प्रदेश में राजस्व की जमकर लूट हो रही है। पूरी व्यवस्था सरकार नहीं हेमंत सोरेन के खजाने को भरने के लिए तय है। उन्होंने कहा कि साहिबगंज से पलामू तक लूट, हत्या, दुष्कर्म और अपराध चरम पर है। पुलिस अधिकारी, जज से लेकर आम और खास सब असुरक्षित हैं। राज्य में बिचौलिया और अपराधियों के इशारे पर ट्रांसफर पोस्टिग का खेल चल रहा है। उन्होंने कहा कि जज की मौत मामले में तो हेमंत सरकार ने सीबीआइ जांच का आदेश दे दिया है, वहीं साहिबगंज में पदस्थापित आदिवासी पुलिस पदाधिकारी रूपा तिर्की की मौत के मामले में हेमंत सरकार खामोश क्यों हैं। इस मामले में उनके विधायक प्रतिनिधि का नाम सामने आ रहा है। कहीं इस डर से तो मामले की जांच सीबीआइ से नहीं कराना चाह रही है। बाबूलाल ने कहा कि अगर सही मायने में खनिज सहित अन्य लूट के साम्राज्य को समाप्त करना है तो शिबू सोरेन के पूरे परिवार को संताल परगना से विदा करना होगा। राज्य के समग्र विकास के बाधक इस परिवार को बोरिया-बिस्तर बंधवा कर विदा करना होगा। उन्होंने कहा कि वे मंगलवार को भी सत्याग्रह आंदोलन में शामिल होंगे।


धनबाद एसपी को की हटाने की मांग


दुमका। बाबूलाल मरांडी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि धनबाद में जो पलामू से एसपी लाया गया है। उसे करोड़ों रुपये लेकर लाया गया है। उन्होंने कहा कि पलामू में एसपी रहने के दौरान एक बिहार की महिला शिकायत लेकर आई थी। 26 मई उसने बताया एक 70 वर्ष के बूढ़े आदमी और ड्राइवर का अपहरण हो गया है। वे छत्तीसगढ़ से अपने बच्चे से मिलकर आ रहे थे। अपहर्ताओं ने 60 लाख की फिरौती मांगी की थी और 10 लाख में सौदा तय हुआ था। एसपी ने कहा था कि वह अपहर्ताओं को 10 लाख दे दे, वह उन्हंें पकड़ लेंगे। पर हुआ यह कि 9 जून को रात के नौ बजे गढ़वा और पलामु के सीमा पर अपराधियों ने 10 लाख रुपया भी ले लिया और उन्हें छोड़ा भी नहीं। ऐसे एसपी को हेमंत सोरेन ने धनबाद में लाकर बैठा दिया है। हमें लगता है करोड़ो रुपए लेकर इस तरह के एसपी को धनबाद लाया गया है। बाबूलाल मराण्डी ने पलामू के अपहरण की घटना को लेकर एसपी पर सीबीआई जांच की मांग की। उन्होंने जज हत्याकांड को लेकर धनबाद एसपी को हटाने की मांग की। उन्होंने कहा कि पुलिस और अधिकारियों को यह समझ लेना चाहिए कि सरकारें आती-जाती रहती हैं। इसलिए वे सचेत हो जाएं क्योंकि अगर सरकार बदलती है तो ऐसे अधिकारियों को चिह्नित कर दंडित किया जाएगा।

41 views0 comments