सन्थाल परगना के लिए ऐतिहासिक दिन,देवघर एम्स का हुआ उदघाटन


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने नई दिल्ली ऑनलाइन उद्घाटन किया

देवघर। झारखंड के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। आखिरकार देवघर ऐम्स के ओपीडी का उद्घाटन हो गया।भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया द्वारा दिल्ली से इसका वर्चुअल उद्घाटन किया गया।देवघर ऐम्स परिसर में आयोजित इस उद्घाटन समारोह में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रतिनिधि के तौर पर राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण और पर्यटन मंत्री हफीजुल हसन,गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे,स्थानीय विधायक नारायण दास सहित देवघर ऐम्स के कार्यकारी निदेशक डॉ सौरव वार्ष्णेय और देवघर के उपायुक्त एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।मौके पर बोलते हुए मंत्री हफीजुल हसन ने इसे झारखंड राज्य के लिए बड़ी उपलब्धि बताया। मंत्री ने कहा कि झारखंड नया राज्य बना तभी यहाँ ऐम्स जैसी शीर्ष स्वास्थ्य संस्था की परिकल्पना की गई। मौके पर मौजूद गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे में कहा कि मेरे लिए यह एक सपना के पूरा होने के समान है। यह सिर्फ देवघर हो नहीं पूरे अंग क्षेत्र के लिए वरदान साबित होगा। सांसद ने कहा कि जून 2022 तक पूरा ऐम्स बन कर तैयार हो जायेगा और लोगों को उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सेवा का लाभ मिलने लगेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने नई दिल्ली से आज मंगलवार को झारखंड के देवघर में नवनिर्मित एम्स की ओपीडी सेवा का ऑनलाइन उद्घाटन करते हुए कहा कि भगवान बिरसा की धरती पर झारखंड के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा एम्स में मिलेगी। इलाज के लिए उन्हें बाहर नहीं जाना पड़ेगा।

देवघर एम्स में ओपीडी की सेवा के लिए 30 रुपये में रजिस्ट्रेशन होगा

डॉक्टरों का नाम व विभाग देवघर एम्स के वेबसाइट www.aiimsdeoghar.edu.in में भी उपलब्ध है

केंद्रीय मंत्री ने कहा एम्स की टीम से कहा कि वे सेवाभाव से काम कर जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरें. देवघर एम्स में ओपीडी की सेवा के लिए 30 रुपये में रजिस्ट्रेशन होगा. जांच के दौरान मरीजों को दवा दी जाएगी. एक बार रजिस्ट्रेशन कराने पर मरीज सालभर तक इलाज करा सकेंगे. फिलहाल 20 से अधिक रोगों की जांच होगी. रोजाना 200 मरीजों का रजिस्ट्रेशन होगा. स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार से घोषित देश के 22 एम्स में 13वें एम्स की ओपीडी सेवा देवघर में बुधवार से शुरू हो जायेगी. ओपीडी में सारे विशेषज्ञ डॉक्टरों की सेवा दी जायेगी. देवघर एम्स में डॉक्टरों का ड्यूटी रोस्टर तैयार कर लिया गया है. डॉक्टरों का नाम व विभाग देवघर एम्स के वेबसाइट www.aiimsdeoghar.edu.in में भी है. ओपीडी में जांच, चिकित्सीय परामर्श व दवाइयां मरीजों को दी जायेगी. हर तरह की बीमारी से संबंधित मरीजों को पूरी सलाह दी जायेगी. रोगियों को देश के अन्य एम्स समेत केंद्र सरकार के सरकारी संस्थान में रेफर भी किया जायेगा. डॉक्टरों को अगर लगेगा मरीज दवा से ठीक हो सकते हैं तो उन्हें रियायत दरों पर रैन बसेरा बिल्डिंग में अमृत फॉर्मेसी से दवाइयां दी जायेगी. अलग-अलग दवाइयों में 60 फीसदी तक छूट है.

केवल मरीजों की भर्ती, ऑपरेशन, दुर्घटना केस व इजरजेंसी सेवा अभी चालू नहीं रहेगी. ओपीडी में 15 बेड का डे केयर मरीज की सुविधा होगी. अगर किसी मरीज को अचानक डिहाइड्रेशन जैसी शिकायत हो गयी तो उनका चार-पांच तक बेड में इलाज कर सकते हैं. कोई इंजेक्शन लेने के बाद उन्हें दो-तीन घंटे तक रखा जा सकता है, लेकिन रात की सुविधा इसमें नहीं होगी.

सुबह 8:30 से 10:30 बजे तक रजिस्ट्रेशन होगाकोविड को ध्यान में रखते हुए प्रतिदिन 200 मरीजों को चिकित्सीय परामर्श दी जायेगी

कोविड को ध्यान में रखते हुए प्रतिदिन 200 मरीजों को चिकित्सीय परामर्श दी जायेगी. सुबह 8:30 से 10:30 बजे तक रजिस्ट्रेशन होगा. रजिस्ट्रेशन में एक बुक मिलेगा व जिसमें मरीज के मेडिकल का सारा ब्योरा रहेगा. एक रजिस्ट्रेशन की वैद्यता एक वर्ष तक रहेगी. एक माह के अंदर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी शुरू होगी. एक रजिस्ट्रेशन में एक व्यक्ति अधिक से अधिक रोगों का परामर्श ले सकते हैं. जिन 200 मरीजों को रजिस्ट्रेशन होगा, उन सभी को डॉक्टर शाम पांच बजे तक देखेंगे. ओपीडी में प्रवेश करने से पहले मरीज की स्क्रीनिंग होगी व वैक्सीन का स्टेटस देखा जायेगा. ओपीडी में परामर्श के बाद मरीजों की आवश्यकतानुसार जांच की सुविधा है. अभी बेसिक जांच की सुविधा दी जा रही है. खून, यूरिनल व अन्य बेसिक जांच की सुविधा रहेगी. मरीजों को केंद्र सरकार से निर्धारित बहुत ही रियायत दर पर जांच की सुविधा मिलेगी. तीन-चार माह में एक्सरे व अल्ट्रासाउंड की सुविधा शुरू होगी

पूर्वी भारत का देवघर एम्स में पहला रैन बसेरा बना है

पूर्वी भारत में देवघर एम्स में पहला रैन बसेरा बना है. इस रैन बसेरा में मरीज के साथ आने वाले परिजन रात में रुक पायेंगे, उन्हें भटकना नहीं पड़ेगा. फिलहाल रैन बसेरा में एम्स के छात्रों की लैब की पढ़ाई होगी. छह माह बाद एम्स का अन्य बिल्डिंग हेंडओवर होने के बाद रैन बसेरा से छात्रों का लैब दूसरे भवन में शिफ्ट कर दिया जायेगा।

मौके पर एम्स के डायरेक्टर सौरव वार्ष्णेय ने कहा कि फिलहाल यहां पर परामर्श की सुविधा बहाल की गई है धीरे-धीरे सभी सुविधाओं को बढ़ाया जाएगा और दिल्ली एम्स की तर्ज पर सारी सुविधाएं बहाल हो जाएगी एम्स ओपीडी के शुरू हो जाने से संथाल परगना जैसे पिछड़े क्षेत्र में लोगों को इलाज के लिए एक बड़ी राहत दी गई है कल से ओपीडी निरंतर चालू रहेगा और लोगों को सुविधाएं मिलनी शुरू हो जाएगी ।

246 एकड़ क्षेत्र में बन रहे देवघर एम्स का निर्माण काफी तेजी से निर्माण चल रहा है

देवघर एम्स का शासकीय भवन,760 बेड का हॉस्पिटल,नर्सिंग कॉलेज,इमरजेंसी वार्ड और 76 आईसीयू बेड का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है...MBBS के साथ यहां नर्सिंग की भी पढ़ाई होगी...खास बात है कि इस क्षेत्र की कुछ खास बीमारियों पर शोध के लिए भी यहां एक स्वतंत्र प्रभाग प्रस्तावित है..MBBS की पढ़ाई अस्थायी भवन में जारी है.यहां हॉस्पिटल बिल्डिंग,एकेडमिक बिल्डिंग के अलावा 22 तल्ले का ऑफीसर्स क्वार्टर और 16 तल्ले का छात्रों का होस्टल बनाया जा रहा है । 22 तल्ले का यह भवन झारखंड का सबसे ऊंचा मल्टी स्टोरी बिल्डिंग होगा. देवघर एम्स के निर्माण से झारखंड ही नहीं बिहार,पश्चिम बंगाल,उड़ीसा और कई पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों को यहां एक सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की सुविधा मिल सकेगी।

एम्स में ओपीडी चालू नहीं करने पर झारखंड हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और एम्स को नोटिस जारी किया था।

जस्टिस राजेश शंकर की अदालत ने कहा कि सिर्फ उदघाटन के चलते ओपीडी शुरू नहीं करना दुर्भाग्यपूर्ण है। अदालत ने केंद्र और एम्स को 26 अगस्त तक जवाब दाखिल कर यह बताने को कहा है कि देवघर एम्स में अभी तक ओपीडी क्यों नहीं शुरू की जा सकी है। झारखंड सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने यह निर्देश दिया था।

सोमवार को सरकार की ओर से बताया गया कि देवघर एम्स में ओपीडी बन कर पूरी तरह तैयार है। इसे शुरू करने के लिए राज्य सरकार ने सभी औपचारिकता पूरी करने के बाद अनुमति भी दे दी है, लेकिन उदघाटन नहीं होने के कारण केंद्र सरकार इसे चालू नहीं कर रही है। कोरोना संक्रमण के दौरान अगर देवघर एम्स का ओपीडी चालू होता है, तो लोगों को इलाज में सुविधा मिलेगी। कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए एम्स में जल्द से जल्द ओपीडी को शुरू किया जाना चाहिए। इसके बाद अदालत ने केंद्र सरकार और दिल्ली एम्स को नोटिस कर जवाब मांगा था। इस पर अदालत ने कहा कि जब ओपीडी बन कर तैयार है,तो सिर्फ उदघाटन के नाम पर इसे चालू नहीं करना दुर्भाग्यपूर्ण है। अदालत ने केंद्र सरकार और एम्स को नोटिस जारी कर 26 अगस्त तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था, लेकिन उसके पूर्व आज एम्स के ओपीडी सेवा की शुरुवात कर दी गयी।

आखिरकार राजनीति बादल हटा aiims के ऊपर से, झारखंड का एकमात्र ऐम्स के ओपीडी और रैन बसेरा का केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने आज उदघाटन किया। इसके साथ ही aiims प्रबंधन ने ओपीडी की जानकारी के लिए 94713392740 और 9341709348 नंबर किया जारी




366 views0 comments