दुमका प्रशासन ने पेंशनरों को धरना-प्रदर्शन की नहीं दी अनुमति


दुमका । झारखंड राज्य पेंशनर समाज के जिला शाखा द्वारा लक्ष्मी कांत ठाकुर के सभापतित्व में प्रस्तावित धरना -प्रदर्शन की अनुमति नहीं मिलने के कारण सदस्यों ने शुक्रवार को आम सभा की जिसमें लंबित एवं ज्वलंत मांगों पर र्चा की गयी। जिला सचिव तारणी प्रसाद कामत ने मांगों पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि आज देश के वरीय नागरिक कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। हम लोगों का भी जनवरी 20 से जून 21 तक का महंगाई भत्ता की राशि रोक दिया गया है जिसके लिए आज उपायुक्त को संलेख समर्पित किया जा रहा है। वरीय नागरिकों को ट्रेन में रियायत बंद कर दिया गया है। चिकित्सा की भी दयनीय स्थिति है। देश के सांसद और विधायक जो करोड़पति हैं उन्हें चिकित्सा की तमाम सुविधा रहने के बावजूद 10000 प्रति माह चिकित्सा भत्ता दिया जाता है जबकि जरूरतमंद पेंशनरों को 1000 रुपैया। रोजगार खत्म हो रहा है जिसका प्रभाव पेंशनरों पर भी किसी न किसी रूप से पड रहा है। वासुदेव प्रसाद, मनोज मिश्र, जगरनाथ झा, श्यामा देवी यादव, भवानी शंकर प्रसाद, अरविंद मिश्र, बाल किशोर कापरी, कुंदन झा, अरुण झा, प्रदुमन शर्मा, सोनेलाल हेंब्रम, राधे मिस्त्री, अखिलेश्वर ठाकुर, गणेश साह आदि ने भी अपनी बातों को रखा तथा सरकार से अनुरोध किया की बकाया महंगाई भत्ता का भुगतान करे। वक्ताओं ने पुरानी पेंशन योजना को जारी करने का भी अनुरोध किया। समाज के अध्यक्ष लक्ष्मी कांत ठाकुर के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल उपायुक्त से मिलकर राष्ट्रपति के नाम संलेख समर्पित किया। मौके पर केएन सिंह, जय नारायण मिश्र, फुलझड़ी मंडल अब्दुल रशीद आदि उपस्थित थे।



71 views0 comments