दुमका के मारवाड़ी चौक में सोना-चांदी के दुकान में लूट की कोशिश, चली गोली


दुकान में घुसे थे तीन अपराधी, चौथा बाहर रहकर कर रहा था निगरानी


दुमका। शहर के मारवाड़ी चौक के पास स्थित गणपति ज्वेलर्स में डकैती के नीयत से तीन नहीं बल्कि चार अपराधी आये थे। यह खुलाशा ज्वेलरी दुकान के बाहर लगे सीसीटीवी फूटेज से हुआ है। इससे पहले स्वर्ण व्यवसायी और पुलिस यह मान कर चल रहे थे कि अपराधी तीन की संख्या में थे। चारों अपराधी दो बाइक पर सवार होकर दोपहर करीब एक बजे गणपति ज्वेलर्स पहुंचे थे। उनमें से तीन हथियारबंद अपराधी ज्वेलरी दुकान में घुस गये और पिस्तौल के बल पर डकैती को अंजाम दे पाते कि इससे पहले ही बाहर हल्ला सुनकर चौथे साथी ने अपराधियों को मौके से भाग निकलने के लिए कहा।

भागने के क्रम में अपराधी काउंटर में रखे गहनों को समेटना चाह रहे थे जिसपर दुकान में मौजूद दोनों भाई संजय वर्मा और विजय वर्मा अपराधियों से भिड़ गये। इसपर उनमें से दो अपराधी पिस्तौल लहराते हुए भाग निकले जबकि तीसरे अपराधी को भाईयों ने पकड़ लिया। इससे पहले कि वे अपराधी का पिस्तौल छीन पाते, उसने फायरिंग कर दी। संयोग से गोली विजय वर्मा के बांह में जख्म करती हुई गुजर गयी। खून गिरता हुआ दिखने पर विजय वर्मा को गोली लगने का एहसास हुआ। अपराधी को काबू में करने के दौरान बड़े भाई संजय वर्मा को सिर में चोट आयी जबकि राजु सोनी को अंगुली में चोट लगी है। अपराधी से पिस्तौल छीनने के बाद भीड़ ने जमकर उसकी धुनाई कर दी। नगर थाना पुलिस ने अपराधी को भीड़ से निकालकर उसकी जान बचाई और गिरफ्तार उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया। घायल अपराधी बिहार के खगड़िया जिले के अनौली थाना क्षेत्र के बहादुर पुर निवासी सुनील मुखिया को का पुलिस कस्टडी में मेडिकल कालेज अस्पताल में इलाज चल रहा है। फरार डकैत का नाम संतोष यादव व साहेब बताया जा रहा है। डाग स्कावयड की टीम ने भी दुकान में जाकर जांच की।


राजु सोनी को देख नहीं पाये डकैत

दुमका। शहर बीचोंबीच स्थित मारवाड़ी चौक के पास गणपति ज्वेलर्स की दुकान है। दुकान में तीन भाई संजय वर्मा, विजय वर्मा और राजू सोनी बैठते हैं। सोमवार के दोपहर संजय वर्मा और विजय वर्मा दोनों भाई दुकान में एक व्यपारी से बात कर रहे थे। इसी बीच बच्चे को ट्यूशन पहुंचाकर तीसरा भाई राजु सोनी भी दुकान पहुंच गया। उसने देखा कि दोनों भाई व्यपारी से बातचीत कर रहे हैं तो वह शीशा का दरवाजा खोल कर दुकान के पिछले हिस्से में जाकर बैठ गया जहां दुकान का एक स्टाफ भी मौजूद था। यह शीशा इस प्रकार का है जिससे राजु सोनी तो दुकान के अंदर की गतिविधि देख सकता था पर दुकान में मौजूद कोई व्यक्ति उसे नहीं देख सकता था। इसी बीच तीन अपराधी दुकान में घुसे और डकैती के नीयत से पिस्तौल निकाल लिया। राजु सोनी ने दरवाजा को अंदर से बंद कर लिया और अपने स्टॉफ के साथ पीछे के दरवाजे से निकल कर मुख्य दरवाजे की ओर आकर शोर मचा दिया। शोर सुनकर आसपास के दुकान एकत्र होने लगे तो बाहर मौजूद उनके चौथे साथी ने अपराधियों को कहा कि हल्ला हो गया है, इसलिए भाग चलें।


सात लाख का ज्वेलरी ले जाने का प्रयास

दुमका। भागने के दौरान अपराधी काउंटर से लगभग सात लाख मूल्य के ज्वेलरी लेकर भागने का प्रयास करने लगे तो तीनों भाई उनसे भिड़ गये। इसपर उनमें से दो तो मौके से भाग निकलने में कामयाब रहा पर विजय ने एक अपराधी को पकड़कर जमीन में गिरा दिया और उसकी पिस्टल छीनने का प्रयास करने लगा। संजय वर्मा भी अपराधी से भिड़ गये और राजु सोनी एवं अन्य स्थानीय लोगों ने उसे काबू में करने का प्रयास किया पर वह पिस्तौल छोड़ नहीं रहा था। इसी बीच उसने एक फायर कर दिया और गोली बिजय के बांह को छीलते हुए पार कर गयी। सबों ने मिलकर आखिरकार उसके हाथ से पिस्तौल छीन लिया और फिर क्या था भीड़ उसपर टूट पड़ी। सूचना के बाद नगर थाना प्रभारी देवव्रत पोददार व एसडीपीओ नूर मुस्तफा अंसारी मौके पर पहुंचे और डकैत को कब्जे लिया।

दो-दो कपड़े पहन कर आये थे अपराधी

दुमका। डकैती करने के लिए बिहार से दुमका पहुंचे अपराधी पूरी तैयारी के साथ आये थे। पकड़ा गया अपराधी सुनील मुखिया और उसके तीनों साथ दो-दो कपड़े पहन कर आये थे। उनकी योजना थी कि डकैती करने के बाद वह उपर का शट खोल कर फेंक देंगे और अंदर पहने हुए शर्ट में भाग निकलेंगे। पकड़ा गया अपराधी सुनील मुखिया उपर ब्लू रंग का और अंदर सफेद रंग का शर्ट पहनु हुआ था। अपनी पहचान छिपाने के लिए पीला शर्ट पहने चौधा अपराधी हेलमेट लगाये हुए बाहर में निगरानी कर रहा था। उसी ने दुकान के अंदर जाकर साथियों को भागने का इशारा किया। लाल व काले रंग की शर्ट पहने उसके दो साथी पैदल भागे जबकि हेलमेट लगाये चौथा अपराधी सफेद रंग की अपाबी बाइक से भाग निकला। गिरफ्तार सुनील मुखिया पर अनौली थाना में भी आर्म्स एक्ट का केस दर्ज है।


298 views0 comments