दुमका में ईद को लेकर आयोजित शांति समिति के बैठक में नहीं पहुंचे एक भी अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधि




दुमका. अंजुमन इस्लामिया सह मदरसा कमिटी ने बैठक कर निर्णय लिया की काला बिल्ला लगाकर ईद की नमाज अदा करेंगे. साथ ही आज नगर थाना परिसर में ईद को लेकर आयोजित शांति समिति की बैठक का भी कमिटी ने बहिष्कार कर किया. शांति समिति के वैठक में एक भी अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधि ने भाग नही लिया. कमिटी के अध्यक्ष मो. परवेज अली का कहना है कि 7 से 8 युवकों की शिकायत पर प्रसासन अंजुमन इस्लामिया कमिटी के सदस्यों पर डंडा बरसाती है तो किस बात की शांति और कैसी खुशी. उन्होंने कहा कि इसलिए हमलोग काला बिल्ला लगाकर ईद के दिन नवाज अदा कर विरोध दर्ज कराएंगे.


शांति समिति की बैठक में उपस्थिति कम होने के बाबत पूछे जाने पर एसडीपीओ नूर मुस्तफा ने कहा कि पंचायत चुनाव के साथ साथ कल ईद का त्यौहार होने के कारण लोग व्यस्त होंगे.

वहीं अंजुमन इस्लामिया सह मदरसा कमिटी द्वारा काला बिल्ला लगाकर ईद की नमाज अदा करने की घोषणा के बाबत पूछे जाने पर सदर सीओ यामुन रविदास ने कहा कि प्रसासन को इसकी कोई सूचना नहीं है.वैसे माहौल बिगाड़ने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर भूमि से संबंधित कोई मामला है तो सभी पक्ष से कागजात की मांग कर जांच की जाएगी. उन्होंने कहा कि कमिटी के सदस्यों को प्रसासन से मिलकर बात रखनी चाहिए ताकि समस्या का स्थायी समाधान हो सके.



जमीन विवाद में जिला प्रशासन के रवैया से नाखुश हैं कमेटी के लोग

हम आपको बता दें कि जामा मस्जिद परिसर में जमीन के एक टुकड़े पर विवाद चल रहा है. अंजुमन इस्लामिया कमिटी के उस पर दावा है. वहीं दूसरे पक्ष द्वारा उस जमीन को सरकारी जमीन बताया जा रहा है .कमिटी द्वारा जब भी उस पर निर्माण कार्य शुरू किया जाता है दूसरे पक्ष द्वारा प्रसासन को लिखित आवेदन देकर कार्य को बंद करा दिया जाता है.मामला एसडीओ के कोर्ट में लंबित है. उक्त जमीन पर एसडीओ दुमका द्वारा धारा 144 लागू किया गया है.

440 views0 comments