रेड क्रॉस ने लगाया थैलेसीमिया विशेष रक्तदान शिविर



सचिव, वाइस चेयरमैन व संयुक्त सचिव समेत कई ने किया रक्तदान

थैलेसीमिया मरीजों के लिए प्रत्येक माह आयोजित होगा रक्तदान शिवि

दुमका। भारतीय रेड क्रॉस सोसाईटी के स्थापना दिवस और थैलेसीमीया दिवस पर रविवार को रेड क्रॉस सोसायटी के दुमका शाखा द्वारा ‘‘थैलेसीमिया विशेष रक्तदान शिविर’’ का आयोजन किया गया। इस रक्तदान शिविर में रेड क्राँस सोसायटी के सचिव अमरेंद्र कुमार यादव, वाइस चेयरमैन डा राजकुमार उपाध्याय, संयुक्त सचिव मनोज घोष, बृजेश कुमार, रेखा देवी (गुड्डी), दिलीप हेंब्रम, शहादत सिद्दीकी, मनीष कुमार पंडित आदि ने किया रक्तदान।


रेड क्रॉस सोसायटी के सचिव सह बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष अमरेन्द्र कुमार यादव ने बताया कि थैलेसीमिया मरीजों की रक्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए यह विशेष रक्तदान शिविर लगाया गया है। उन्होंने बताया कि दुमका ब्लड बैंक से 18 वर्ष तक के 48 थैलेसीमिया मरीज जुड़े हुए हैं जिनको हर महीने या महिने में दो बार रक्त की जरूरत होती है। कई बार थैलेसीमिया पीड़ित बच्चे के रक्त के लिए अभिभावक के भटकने की खबरें आ रही थी जिसपर बाल कल्याण समिति ने संज्ञान लिया है। समिति विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर प्रत्येक महिने थैलेसीमिया मरीजों के लिए विशेष रक्तदान शिविर लगवायेगी, इसी की शुरूआत थैलेसीमिया दिवस पर रेड क्रॉस सोसायटी द्वारा थैलेसीमिया विशेष रक्तदान शिविर लगाकर की गयी है।


रेड क्रॉस सोसायटी के वाइस चेयरमैन सह बाल कल्याण समिति के सदस्य डा राज कुमार उपाध्याय ने बताया कि समिति ने दुमका ब्लड बैंक से थैलेसीमिया पीड़ित 18 वर्ष तक के 48 बच्चों का पिछले एक साल का रेकार्ड मंगवाया है। इससे पता चलता है प्रत्येक महिने थैलेसीमिया मरीजों को 31 से 47 युनिट ब्लड की जरूरत पड़ती है। इस जरूरत को पूरा करने के लिए प्रत्येक माह थैलेसीमिया मरीजों के लिए कम से कम एक रक्तदान शिविर आयोजित करने की योजना है जिसके लिए बाल कल्याण समिति विभिन्न संगठनों से समन्वय बना रही है। इसके अलावा थैलीसिमिया मरीजों को डोनर के साथ टैग करने की योजना भी बनायी गयी है ताकि ऐसे मरीजों को रक्त के लिए भटकना नहीं पड़े। रेड क्रॉस सोसायटी के संयुक्त सचिव मनोज कुमार घोष ने कहा कि थैलेसीमिया के अलावा डायलिसिस, एनेमिया, ऑपरेशन के मरीजों और प्रसव के दौरान भी रक्त की जरूरत पड़ती है। 18 से 50 आयुवर्ग के सभी युवाओं को तीन माह के अंतराल पर रक्तदान करना चाहिये। जो भी लोग रक्तदान करते हैं, वह समाज के लिए एक बेतरीन मिशाल हैं। उन्होंने दुमका वासियों से अपील किया कि ज्यादा से ज्यादा लोग रक्तदान करे, रक्तदान महादान है। मौके पर ब्लड बैंक प्रभारी डॉ कुणाल पाण्डेय, ब्लड बैंक के तकनीशियन प्रकाश कुमार दे आदि उपस्थित थे।


2 views0 comments