होमियोपैथी चिकित्सक डा. नयन कुमार राय नही रहे


शुभचिंतकों ने कहा चिकित्सा जगत व समाज के लिए अपूरणीय क्षति

दुमका। झारखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल के प्रख्यात होम्योपैथी चिकित्सक, साई के परम भक्त और श्री शिरडी धाम साई मंदिर दुमका के उपाध्यक्ष डॉ नयन कुमार राय का निधन हो गया है। वह लगभग 66 वर्ष के थे। वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। 1 नवम्बर को.दुर्गापुर से इलाज करवाकर वह लौटे ही थे कि रात लगभग 11.30 बजे उनकी मौत हो गयी। वह अपने पीछे पत्नी के अलावा एकमात्र पुत्री को छोड़ गये हैं। उनके निधन की खबर से उनके शुभचिंतकों, चिकित्सा जगत, सांई समाज सहित समाज के हर तबके में शोक की लहर दौड़ गई है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीति की शुरूआत करनेवाले मधुपुर के प्रमोद कुमार विद्यार्थी ने उनके निधन को व्यक्तिगत क्षति बताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। विद्यार्थी ने बताया कि 1990 के दशक में विद्यार्थी परिषद को खड़ा करने में ‘‘नोनी दा’’ सहित इनके मित्र मंडली के सहयोग के वह बहुत आभारी हैं। वह उनके सांगठनिक और व्यक्तिगत अभिभावक भी थे। भारतीय रेड क्रॉस सोसायटी के दुमका शाखा के सचिव अमरेंद्र कुमार यादव ने डॉ नयन कुमार राय के निधन को शहर एवं चिकित्सा जगत के लिए अपूरणीय क्षति बताया है। उन्होंने कहा कि उनके निधन से चिकित्सा जगत के एक युग का अंत हो गया है। भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी के आजीवन सदस्य रहे डॉ राय गरीब गुरबों के लिए एक मसीहा से कम नहीं थे। चिकित्सा के साथ समाज सेवा में उनकी काफी गहरी रुचि थी उनके साथ समाज सेवा के क्षेत्र में काफी लंबे अरसे से साथ में काम करने का सुखद अनुभव रहा है। इनकी कमी हमेशा खलेगी। भगवान उनको श्री चरणों में स्थान दे। पीटीआई संवाददाता पंडित अनूप कुमार वाजपेयी ने कहा है कि सुविख्यात चिकित्सक नयन राय के अचानक चले जाने की खबर से बहुत दुःख हुआ। उनका जाना चिकित्सा जगत् के लिये अपूरणीय क्षति है। हमने होमियोपैथ जगत् के एक सिद्धस्त धरोहर को खो दिया। उनकी कमी सदैव खलती रहेगी। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे। पत्रकार आर के नीरद ने डा राय के निधन पर अत्यंत दुख जताते हुए कहा है कि डॉ नयन कुमार रॉय मात्र सफल चिकित्सक ही नहीं थे, सफल इंसान भी थे, जिनके सामाजिक सरोकार का विस्तृत आयाम था। दुमका शहर के सामाजिक-सांस्कृतिक चरित्र के विशिष्ट पहचान थे। डा राय का निधन उनके लिए व्यक्तिगत अपूर्णीय क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और परिवार के सदस्यों को यह दुख सहने की शक्ति दें।

कोरोना योद्धा के रूप में सम्मानित किये गये थे डा राय

दुमका। राज्य के सुप्रसिद्ध होमियोपैथिक चिकित्सक डॉ नयन कुमार राय के आकस्मिक निधन पर एआईएसएम जर्नलिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के झारखंड बिहार व बंगाल प्रभारी प्रीतम सिंह भाटिया ने इसे चिकित्सा जगत के साथ साथ प्रदेश के लिए अपूर्णीय क्षति बताया है। भाटिया ने बताया कि कोरोना काल में भी डॉ नयन ने सेवा भाव से लोगों को बेहतरीन चिकित्सा प्रदान की। इन्हीं सब को देखते हुए पिछले साल एसोसिएशन ने दुमका में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्हें कोरोना योद्धा के रूप में सेवा सम्मान 2020 के तहत सम्मानित किया था। उन्होंने बताया कि डॉ राय दुमका में पत्रकारों के दुख दर्द में हमेशा शरीक होते थे। साई ट्रस्ट, रेडक्रॉस सोसायटी, लायंस क्लब जैसी संस्थाओं में भी वो काफी सक्रिय थें। डॉ राय के निधन पर शोक प्रकट करने वालों में से एसोसिएशन के डॉ राजकुमार उपाध्याय, सियाराम शरण सिंह, संतोष झा सुमन, राकेश कुमार चंदन, बिनोद बिहारी सारस्वत, दशरथ महतो, रूपेश झा लाली, बिजय मंडल शामिल हैं।

146 views0 comments