दिवाली के उमंग में रहा उपराजधानी

दुमका. दीपावली के एक दिन पूर्व मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमाओं के साथ उनके पूजन के लिए फूलों की जमकर खरीददारी हुई. मिठाइयों की भी खूब खरीददारी की गयी. बाजार में मिट्टी की बनी प्रतिमाओं के साथ इलेक्ट्रानिक सिस्टम से संचालित होने वाली रंग-बिरंगी प्रतिमाओं की भी खरीददारी की गयी। रविवार को छोटी दीपावली के लिए भी धनतेरस की तरह बाजार सजा रहा. पूरा दुमका दीवाली के उमंग में रहा.खासकर इलेक्ट्रानिक व इलेक्ट्रिक बाजार में रौनक छाई रही.

मिठाइयों की भी खासी डिमांड रहा क्योंकि लोग मिठाईयों का डिब्बा शुभकामना के तौर पर देते हैं. नामी कंपनियों के आकर्षक पैक में चाकलेट, काजु बरफी, बेसन लड्डू, सनपापड़ी, गुलाब जामुन व रसगुल्लों की भी जमकर बिक्री हो रही है। सुरक्षा के लिए शहर के सभी प्रमुख बाजारों में प्रत्येक चौक चौराहों के अलावा भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है.

पटाखा दुकानों में उमड़ी भीड़

दुमका में मंगलवार को यज्ञ मैदान में लगाये गये पटाखा दुकानों में खासी भीड़ देखी गयी. पटाखों के आईटमों पर कई गुना अधिक दर एमआरपी के रूप में लिखा हुआ पाया गया जिस कारण ग्राहक जहां मोल मोलाई करते देखे गये वहीं थोक और खुदरा मूल्यों में भारी अंतर के कारण दुकानदारों ने बड़ा मुनाफा कमाया। जिस आईटम का दाम थोक मार्केट में महज 300 रुपये हैं उसके डिब्बे पर अधिकतम खुदरा मूल्य 2550 रुपये छपा हुआ है

पांच पर्वों का महोत्सव है दीपावली

दीपों का त्यौहार दीपावली पांच पर्वों का महोत्सव है क्योंकि इसे पांच दिनों तक निरंतर अलग-अलग रूप में मनाने की परंपरा है। 22 अक्टूबर को धनवंतरि त्रयोदशी से शुरू हुआ यह पंच पर्व 26 अक्टूबर भैयादूज तक मनाया जाएगा। इन पांच दिनों की पर्व श्रृंखला में 23 अक्टूबर को नरक चतुर्दशी, नरक चौदस या छोटी दीवाली, 24 अक्टूबर को दीपावली, 25 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा एवं 26 अक्टूबर को भैया दूज यानी यम द्वितीया मनाई जा रही है


दीयों व सजावटी सामानों की खुब हुई बिक्री

दीपावली के लिए मिट्टी के और रंग-बिरंगे दीये की भी खूब बिक्री हुई। गंगा मिट्टी के दीया में खास बात रही कि एक मुखी, पंचमुखी, चंद्रमा एवं पान के पत्ता के आकार सहित कई आकार के दीया उपलब्ध थे। चित्रकारी किए हुए रंग-बिरंगे छोटा-बड़ा गुल्लक भी खूब बिके। धूपदानी, कलश एवं घरौंदा भरने के लिए ढ़क्कन, प्लास्टिक के झालरदार फूल, शुभ दीपावली, गणेश-लक्ष्मी एवं अन्य प्रकार कि सजावट की वस्तु भी लोगों को पंसद आया। शहर के टीन बाजार चौक के चारों ओर मिट्टी से बने दीया बेचने के लिए दुकानदार दो दिन पहले से अस्थायी दुकान लगये हुए हैं


37 views0 comments